Negative SEO से अपने Blog/Website को कैसे बचाये – Negative SEO क्या है



Negative SEO से कैसे बचे – हेलो फ्रेंड्स आज एक बहुत ही जरुरी पोस्ट लेकर आया हु और इस पोस्ट में बात करूँगा negative seo के बारे में की negative seo क्या है और इससे कैसे अपने blog या website को कैसे बचाये।

दोस्तों ये पोस्ट में इसलिए लिख रहा हु क्यूंकि बहुत लोगो की google ranking अचानक डाउन होने लगती है जिसकी वजह से उनके blog का traffic भी डाउन हो जाता है. उनको समझ में ही नहीं आता है की ऐसा क्यों हो रहा है और वो लोग बहुत परेशान हो जाते है.

ये बात तो हर किसी को पता है की यदि हम अपने blog पर low quality या spammy backlinks बनाते है तो उससे हमारे blog की traffic और google ranking दोनों पर नेगेटिव इफ़ेक्ट पड़ता है. लेकिन आज भी बहुत से हिंदी bloggers को negative seo के बारे में कुछ भी पता नहीं है.

तो इसी लिए में आजका ये पोस्ट आप सभी लोगो के साथ शेयर कर रहा हु और उम्मीद करता हु की आप सभी को ये पोस्ट बहुत हेल्पफुल लगेगी। तो चलो फ्रेंड्स पोस्ट को स्टार्ट करते है.

इससे पहले की में आपको बताऊ की कैसे आप अपने blog या website को negative seo से बचा सकते हो, सबसे पहले में आपको बताना चाहता हु की आखिर ये negative seo होता क्या है.

Negative SEO क्या है?

Negative SEO Se Blog Ko Kaise Bachaye

दोस्तों जब हमारे blog या website के ऊपर हमारे कॉम्पिटिटर bad या spammy backlinks बनाते है जिसकी वजह से हमारे blog या website की सर्च इंजन रैंकिंग और ट्रैफिक पर बहुत बुरा असर पड़ता है उसको negative seo बोलते है.

कई बार ऐसा होता है की बहुत से bloggers अपने blog की रैंकिंग इम्प्रूव करने के लिए backlinks बनाते है कुछ तो अच्छी बैकलिंक्स होते है लेकिन ज्यादातर low और spammy बैकलिंक्स होते है.

यदि आपने अपने blog के लिए unnatural links बनाये है तो आपको तो ट्रैफिक और रैंकिंग डाउन होने का कारण पता होगा लेकिन क्या जब आपने अपने blog के लिए कभी भी कोई भी बैकलिंक्स नहीं बनाये हो.

और यदि ऐसे में blog की ट्रैफिक और रैंकिंग दोनों में गिरावट देखने को मिले जिसका आपको आईडिया ही नहीं लग रहा है की मेरे blog की ट्रैफिक और गूगल रैंकिंग कम क्यों हो रही है तो हो सकता है की आपके blog पर किसी ने या आपके कॉम्पिटिटर ने negative seo कर दिया हो.

दोस्तों आज के टाइम पर हर किसी को अपने बिज़नेस में सक्सेस होना होता है और ऐसे में आपके कॉम्पिटिटर आपके blog के लिए negative seo करते है जिसकी वजह से आपको बहुत ट्रैफिक और रैंकिंग लॉस होता है जो की आपके blog की seo के लिए बहुत ख़राब होता है.

कैसे पता करे की आप Negative seo के शिकार है?

दोस्तों अब आपको पता चल गया है की negative seo क्या होता है चलो अब देखते है की कैसे आप पता लगा सकते हो की आपका blog या website negative seo का शिकार हो गया है.

दोस्तों सबसे पहले तो आप गूगल वेबमास्टर टूल में मैन्युअल पेनल्टी में चेक कर सकते हो की आपको कोई मेनुअल पेनल्टी मिली है की नहीं। क्यूंकि negative seo में केसेस में unnatural links शामिल होते है जिसकी वजह से आपको पेनल्टी नोटिफिकेशन मिल सकती है.

लेकिन कई बार ऐसा होता है की गूगल आपको कोई मैन्युअल पेनल्टी का नोटिफिकेशन देता ही नहीं है लेकिन आपकी साइट पर बहुत सारे low क्वालिटी और spammy बैकलिंक्स जिसकी वजह से penguin अल्गोरिथम आपके ब्लॉग पर अप्लाई हो जाता है जिसकी वजह से आपकी ब्लॉग के seo पर नेगेटिव इफ़ेक्ट पड़ता है और आपकी blog की ट्रैफिक और रैंकिंग बहुत ही ज्यादा कम हो जाती है.

लेकिन यदि आपको मैन्युअल पेनल्टी नहीं मिली है और फिर भी आपकी ब्लॉग की ट्रैफिक और गूगल रैंकिंग डाउन हो रही है तो आप अपने बैकलिंक्स को जरूर चेक करे और बहुत ज्यादा चान्सेस है की आपके ब्लॉग पर low क्वालिटी और spammy बैकलिंक्स की वजह से बुरा इफ़ेक्ट पड़ रहा है.

Negative seo का शिकार होने के बाद आप यदि कितना भी हाई क्वालिटी का पोस्ट लिखोगे उसके बाद भी आपकी पोस्ट सर्च इंजन में टॉप पर रैंक नहीं हो पायेगी। आपको लगेगा की मेरा पोस्ट को बेस्ट क्वालिटी का है और ये तो टॉप ५ पोजीशन में आराम से रैंक हो जायगा।

लेकिन जब आपकी पोस्ट इंडेक्स होती है तो आपकी पोस्ट 7th या 8th पेज पर रैंक होती है तो ये क्लियर सिग्नल है की कुछ तो गड़बड़ है. ऐसे में हो सकता की आपके blog पर मैन्युअल या अल्गोरिथ्मिक पेनल्टी लगी हुई हो सकती है.

मैन्युअल पेनल्टी के केस में आपको गूगल वेबमास्टर टूल में नोटिफिकेशन मिलती है लेकिन अल्गोरिथ्मिक पेनल्टी में आपको कोई पेनल्टी नहीं मिलती है तो इसका पता आपको खुद लगाना होता है जिसके संकेत मैंने आपको बता दिया है.

अब दोस्तों आपको पता चल गया की negative seo का पता कैसे करे अब देखते है की हम अपने blog या webiste को negative seo से कैसे बचा सकते है.

Negative Seo अपने Blog/Website को कैसे बचाये

दोस्तों negative seo से अपने blog या webiste को बचाना बहुत जरुरी हो गया है क्यूंकि हम लोग अपने blog पर दिन रात म्हणत करते है और negative seo की वजह से आपके blog की ट्रैफिक और गूगल रैंकिंग पर बुरा प्रभाव पड़ता है.

दोस्तों यहाँ पर हम किसी को अपने blog पर ख़राब बैकलिंक्स बनाने से रोक नहीं सकते है लेकिन हम इन bad बैकलिंक्स से होने वाले बुरे प्रभाव तो रोक सकते है.

Google disavow टूल ऐसा ही एक बहुत ही जबरदस्त टूल है जो की गूगल ने खास करके negative seo या low quality और spammy बैकलिंक्स से होने वाले बुरे प्रभाव से अपने blog या website को १००% बचा सकते है.

ये टूल गूगल ने इस वजह से बनाया क्यूंकि बहुत वेबमास्टर और blogger कम्प्लेन कर रहे थे की हमने हमारे ब्लॉग के लिए कोई भी bad बैकलिंक्स नहीं बनाये है लेकिन हमारे कॉम्पिटिटर ने बहुत सारे low क्वालिटी और spammy बैकलिंक्स बना दिया है और इसकी वजह से हमारा ब्लॉग की ट्रैफिक,seo, गूगल रैंकिंग सभी डाउन हो रही है.

दोस्तों google disavow टूल एक ऐसा टूल है जो की आपको इस कंडीशन से बचने में बहुत मद्दद करता है और कुछ टाइम के बाद आपकी ट्रैफिक और रैंकिंग फिर से अच्छी हो जाती है. ये टूक का उपयोग आप उस टाइम पर भी कर सकते हो जब पहले आपने खुद से ही अपने ब्लॉग या वेबसाइट के लिए ख़राब बैकलिंक्स बनाये हो.

तो ऐसे दोनों केस में आप google disavow टूल का उपयोग करके अपने blog की रैंकिंग और ट्रैफिक को दुबारा हासिल कर पाएंगे।

यदि आपको पता नहीं है की google disavow टूल कैसे इस्तेमाल करते है तो आपकी हेल्प के लिए मैंने पूरा डिटेल में पोस्ट लिख रखा है जिसको फॉलो करके आप bad बैकलिंक्स को रिमूव कर सकते हो.

जरूर पढ़े – Low quality backlinks कैसे remove करे

Conclusion

तो दोस्तों ये था की negative seo से अपने ब्लॉग या वेबसाइट को कैसे बचाये, यदि आपके मन में कोई भी डाउट या सवाल है तो आप कमेंट के माद्यम से मुझसे पूछ सकते हो और में आपके हर एक कमेंट का जल्द से जल्द रिप्लाई दूंगा। दोस्तों ऐसे ही अच्छे पोस्ट प्राप्त करने के लिए हमारे ब्लॉग पर जरूर सब्सक्राइब करे ताकि आपको नए पोस्ट की नोटिफिकेशन मिलती रहे.

4 Replies to “Negative SEO से अपने Blog/Website को कैसे बचाये – Negative SEO क्या है”

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

*