Mobile First Indexing क्या है – पूरी जानकारी हिंदी में



हेलो फ्रेंड्स आजकल गूगल अपने algorithm में बहुत ज्यादा बदलाव कर रहा है और हाल ही में गूगल ने कहा है की अब वो mobile first indexing को बढ़ावा देने वाले है और ये आपकी ब्लॉग या वेबसाइट की seo पर भी इफ़ेक्ट जरूर करेगा।

में अपने इस ब्लॉग पर हिंदी bloggers के लिए हेल्पफुल आर्टिकल लाता हु इसलिए ये पोस्ट लिखना बहुत ही जरुरी है और इस पोस्ट में आपके साथ mobile first indexing के बारे में पूरी जानकारी शेयर करने वाला हु.

में इस पोस्ट में आपको सिंपल भाषा में समझाने की कोशिश करूँगा की आखिर mobile first indexing क्या है और आपको अपने ब्लॉग को mobile first indexing फ्रेंडली बनाने के लिए क्या करना चाहिए।

दोस्तों में आपसे रिक्वेस्ट करूँगा की इस पोस्ट को पूरा जरूर पढ़े क्यूंकि आपको इस पोस्ट में इस अपडेट से रिलेटेड पूरी जानकारी मिलेगी और आपको क्या करना होगा ताकि आपके ब्लॉग के seo पर इसका कोई नेगेटिव इफ़ेक्ट ना पड़े और आपको इससे फायदा हो. तो चलो फ्रेंड्स स्टार्ट करते है.

Mobile first indexing क्या है?

Mobile First Indexing Kya Hai

दोस्तों आपको इस अपडेट के नाम से तो पता ही चल गया होगा की ये क्या है. mobile first indexing का मतलब है की अब गूगल आपके ब्लॉग के मोबाइल वर्शन के डाटा को रैंकिंग और इंडेक्सिंग के लिए इस्तेमाल करेगा।

हर साइट के दो वर्शन होते है जैसे की डेस्कटॉप और मोबाइल वर्शन। जो लोग डेस्कटॉप पर आपके ब्लॉग को देखते है उनको डेस्कटॉप वर्शन दिखाया जाता है और जो लोग मोबाइल पर आपके ब्लॉग को विजिट करते है उनको मोबाइल वर्शन दिखाया जाता है.

खैर ये बात तो हर किसी को पता होगी लेकिन पहले गूगल आपके ब्लॉग को रैंकिंग और इंडेक्सिंग करने के लिए आपके ब्लॉग के डेस्कटॉप वर्शन को इस्तेमाल करता था और उसी के बेसिस पर आपके ब्लॉग को गूगल सर्च रिजल्ट्स में रैंकिंग दी जाती थी.

लेकिन mobile first indexing अपडेट में ये नियम बदल जायेगा और गूगल फिर आपके ब्लॉग के डेस्कटॉप वर्शन को रैंकिंग और इंडेक्सिंग में उपयोग नहीं करेगा और वो आपके ब्लॉग के मोबाइल वर्शन के हिसाब से आपके ब्लॉग को रैंक और इंडेक्स करेगा।

चलो में आपको और अच्छे से समझाता हु, जब आप अपने ब्लॉग पर कोई नया पोस्ट पब्लिश करते हो तो गूगल बोट आपके पेज को क्रॉल करता है और वो दोनों मोबाइल और डेस्कटॉप वर्शन को क्रॉल करता है.

लेकिन इस अपडेट से पहले गूगल आपके डेस्कटॉप वर्शन के डाटा को देखकर आपके ब्लॉग पोस्ट को रैंक करता था लेकिन इस अपडेट के बाद गूगल पहले अब आपके ब्लॉग के मोबाइल वर्शन को देखेगा और उसके अनुसार आपके ब्लॉग पोस्ट को गूगल में रैंक करेगा।

यदि आपके ब्लॉग पर केवल डेस्कटॉप वर्शन है तो ऐसा नहीं है की गूगल आपके पोस्ट को इंडेक्स और रैंक नहीं करेगा वो बिलकुल करेगा। लेकिन इससे आपकी गूगल रैंकिंग और seo पर नेगेटिव इफ़ेक्ट पड़ेगा और आपको अच्छी रैंकिंग नहीं मिल पायेगी।

इसलिए ये बहुत ही जरुरी है की आप लोग अपने ब्लॉग को मोबाइल फ्रेंडली जरूर बनाये और मोबाइल यूजर एक्सपीरियंस को इम्प्रूव करने की कोशिश करे इससे आपके ब्लॉग की ट्रैफिक और seo पर पॉजिटिव इफ़ेक्ट पड़ेगा और आपकी रैंकिंग भी इम्प्रूव होगी।

ब्लॉग को Mobile first Indexing फ्रेंडली कैसे बनाये

१. Responsive Theme

दोस्तों आप अपने ब्लॉग पर रेस्पॉन्सिव थीम का उपयोग करे और इससे आपको बहुत फायदा होगा। आज के टाइम पर जो लोग वर्डप्रेस पर ब्लॉग्गिंग करते है तो ९९% लोग का वर्डप्रेस थीम मोबाइल फ्रेंडली पहले से ही होता है.

यदि आपका थीम मोबाइल फ्रेंडली है तो आपक इस अपडेट से डरने की कोई जरुरत नहीं है. लेकिन यदि आपका ब्लॉग ब्लॉगर पर है तो आपको अपने ब्लॉग पर मोबाइल थीम को एक्टिवटे करना होगा। और ये बहुत ही सिंपल है.

ब्लॉगर ब्लॉग को मोबाइल फ्रेंडली बनाने के लिए आपको अपने ब्लॉग के लेआउट सेक्शन में जाना है और वह पर मोबाइल वर्शन को इनेबल करना चाहिए। क्यूंकि मैंने देखा है की बहुत लोग ब्लॉगर पर मोबाइल वर्शन को बंद रखते है.

यदि आपका ब्लॉग भी ब्लॉगर प्लेटफार्म पर है तो आपको अपने थीम को मोबाइल फ्रेंडली जरूर करना चाहिए आपको फायदा होगा।

२. मोबाइल यूजर एक्सपीरियंस

दोस्तों यदि इस अपडेट से आपको अपने ब्लॉग की ट्रैफिक और seo को इम्प्रूव करना है तो आपको अपने ब्लॉग का मोबाइल यूजर एक्सपीरियंस को बेहतर बनाना होगा। आपको सही फॉण्ट का इस्तेमाल करना होगा, आपके ब्लॉग की नेविगेशन बेहतर होनी चाहिए।

यूजर को आपके ब्लॉग पर सर्फ करने में कोई भी प्रॉब्लम नहीं होनी चाहिए इससे आपके ब्लॉग पर पॉजिटिव इफ़ेक्ट जरूर पड़ेगा क्यूंकि गूगल इस टाइम पर यूजर एक्सपीरियंस पर बहुत ही ज्यादा ध्यान दे रहा है.

३. मोबाइल फ्रेंडली टेस्ट

यदि आपको चेक करना है की आपका ब्लॉग mobile first indexing फ्रेंडली है की नहीं तो आप मोबाइल फ्रेंडली टेस्ट कर सकते हो और इससे आपको पता चल जायेगा की आपका ब्लॉग मोबाइल फ्रेंडली है की नहीं।

इस टेस्ट को करने के लिए गूगल ने एक बहुत ही बढ़िया टूल दे रखा है जहा पर आप अपने ब्लॉग को टेस्ट कर सकते हो की आपका ब्लॉग मोबाइल फ्रेंडली है की नहीं। उसका डायरेक्ट लिंक में आपके साथ शेयर कर रहा हु.

आपको इस वेबसाइट पर जाना है और अपने ब्लॉग पर url टाइप करना है, फिर गूगल आपके ब्लॉग को स्कैन करेगा और आपको बता देगा की आपका ब्लॉग मोबाइल फ्रेंडली है की नहीं।

Blog Mobile Friendly Test

४. Amp वर्शन

Amp का फुल फॉर्म है Accelerated Mobile pages. ये सबसे बढ़िया तरीका है अपने ब्लॉग को मोबाइल फ्रेंडली बनाने का, यदि आप वर्डप्रेस पर ब्लॉग्गिंग करते हो तो आप अपने वर्डप्रेस ब्लॉग में amp वर्शन को एक्टिवटे कर सकते हो.

ऐसा करने से आपके ब्लॉग की लोडिंग स्पीड इनक्रीस होगी और आपका ब्लॉग बहुत जल्दी लोड होगा इससे mobile first indexing अपडेट होने के बाद आपके ब्लॉग की seo पर बहुत पोस्टिव इफ़ेक्ट पड़ेगा।

आज के टाइम पर आपने देखा होगा की मोबाइल सर्च रिजल्ट्स में जो amp एक्टिवेटिड है उनके बगल में ये amp का sign शो होता है. और इससे आपके ब्लॉग की रैंकिंग बहुत ज्यादा इम्प्रूव होगी और मोबाइल ट्रैफिक बहुत ज्यादा इनक्रीस होगा।

Mobile First Indexing से जुड़े सवाल और जवाब

१. क्या ये अपडेट सभी ब्लॉग के लिए लागु हो गया है?

गूगल का कहना है की अभी ये अपडेट सभी ब्लॉग के लिए अप्लाई नहीं हुआ है लेकिन ये आने वाले टाइम पर सभी ब्लॉग और वेबसाइट पर लागु हो जायेगा और आपको इसकी तयारी अभी से करनी चाहिए।

२. कैसे पता करे की मेरे ब्लॉग पर ये अपडेट लागु हुआ है की नहीं?

दोस्तों जब आपके ब्लग पर mobile first indexing algorithm लागु होगा तो आपको गूगल सर्च टीम की तरफ से एक ईमेल आएगा और उसमे आपको बताया जायेगा की आपके ब्लॉग पर mobile first indexing algorithm लागु कर दिया गया है.

३. क्या इस अपडेट का seo पर को इफ़ेक्ट पड़ेगा?

बिलकुल पड़ेगा यदि आपका ब्लॉग मोबाइल फ्रेंडली नहीं है तो आपके ब्लॉग की ट्रैफिक और seo पर बुरा असर पड़ेगा और आपके ब्लॉग की ट्रैफिक और रैंकिंग डाउन जरूर होगी।

४. क्या हमको डेस्कटॉप वर्शन को डिसएबल कर देना चाहिए?

नहीं आपको ये नहीं करना है आपको डेस्कटॉप वर्शन को डिसएबल नहीं करना चाहिए। यदि आप डेस्कटॉप पर भी मोबाइल वर्शन दिखाओगे तो ये ख़राब यूजर एक्सपीरियंस होगा। इस अपडेट से गूगल का उद्देश्य ये है की यदि कोई डेस्कटॉप से आपके ब्लॉग को देखेगा तो उसको डेस्कटॉप वर्शन ही दिखेगा।

लेकिन seo और रैंकिंग के लिए गूगल सर्च रैंकिंग के लिए आपके मोबाइल वर्शन के डाटा को उपयोग करेगा।

५. क्या मुझको अपने ब्लॉग की थीम को बदल लेना चाहिए?

यदि आप वर्डप्रेस पर हो तो ज्यादातर वर्डप्रेस थीम्स पहले से ही मोबाइल फ्रेंडली होते है तो आपको थीम बदलने की कोई जरुरत नहीं है लेकिन यदि आपके ब्लॉग की मोबाइल फ्रेंडली टेस्ट करने के बाद शो होता है की आपका ब्लॉग मोबाइल फ्रेंडली नहीं है तो आपको अपने थीम को बदल लेना चाहिए।

६. क्या ये अपडेट हिंदी ब्लॉग के लिए भी लागु है?

हां ये अपडेट हिंदी, इंग्लिश या किसी भी भाषा के ब्लॉग और वेबसाइट दोनों के लिए लागु है.

७. क्या इस अपडेट से seo बूस्ट मिलेगा?

हां यदि आपका ब्लॉग पूरी तरह से मोबाइल फ्रेंडली है और अच्छा यूजर एक्सपीरियंस प्रदान करता है तो आपके ब्लॉग की गूगल रैंकिंग और seo पर पॉजिटिव इफ़ेक्ट पड़ेगा।

Conclusion:

तो फ्रेंड्स ये था mobile first indexing क्या है और आपको अपने ब्लॉग को मोबाइल फ्रेंडली बनाने के लिए क्या करना होगा और किन बातो का ध्यान रखना होगा ताकि आपके ब्लॉग पर कोई नेगेटिव इफ़ेक्ट ना पड़े.

दोस्तों यदि आपको ये पोस्ट हेल्पफुल लगी तो पोस्ट को शेयर करे और mobile first indexing से रिलेटेड कोई भी दूसरे सवाल और जवाब आप कमेंट में मुझसे पूछ सकते हो.

2 Comments

Add a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *